समाचार

भारत सरकार और भारतीय सेना के साथ हमे भी लड़ने की जरुरु है

कैसे हमे मसूद अजहर को भारत लाने में मोदीजी की मदद करनी चाहिए

Tribute to CRPF
309

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में ४० सीआरपीएफ जवानों की शहादत के बाद देश को पाकिस्तान के खिलाफ भारत सरकार की कार्रवाई का इंतजार है| आम लोग पाकिस्तान को सबक सिखाने के लिए सर्जिकल स्ट्राइक और युद्ध जेसी कार्रवाई की मांग कर रहे हैं|

सर्जिकल स्ट्राइक करने के लिए काफी तैयारी करनी पड़ेगी इतना समय नहीं है और पाकिस्तान भी चौकना हो गया है| युद्ध भी इतनी जल्दबाजी नही करनी चाहिए क्योकि उससे भारत को आर्थिक नुकसान हो सकता है| अभी नरेन्द्र मोदी सरकार जिस तरह से पकिस्तान को दुनिया से अलग थलग करने में जुटी हे वो सही है|

पुलवामा आतंकी हमले में सीआरपीएफ के ४० जवान शहीद हुए। इस घटना के बाद पूरे भारत में पाकिस्तान को लेकर आक्रोश है। हमले से जुड़ी एक बड़ी बात सामने आई है। दरअसल, जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर ने पाकिस्तान के आर्मी बेस हॉस्पिटल में बैठकर पुलवामा अटैक के निर्देश दिए थे।

यूएन काउंसिल द्वारा मसूद अजहर को अंतरराष्ट्रीय आतंकवादियों की लिस्ट में सूचीबद्ध करने के भारत के प्रयासों पर चीन कई बार रोड़े अटका चुका है। क्योकि वो चीन नहीं चाहता की पाकिस्तान के साथ उसका रिश्ता बिगड़ जाये| चीन के इस निर्णय को लेकर उसे इस बात का डर है कि कहीं इससे उसकी पाकिस्तान के साथ दोस्ती में खटास न पैदा हो जाए।

पूर्व राजनयिक और रणनीतिक मामलों के जानकार फुनचॉक स्तॉब्दन अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया से कहते हैं, ‘चीन एक बड़ी सौदेबाजी के बाद ही मसूद अजहर पर अपने रुख में बदलाव करने पर विचार कर सकता है। वह भारत से बदले में कुछ रियायतों की उम्मीद भी करेगा।

तो हर भारतवासी को आजसे चीन की कोईभी चीज वस्तु को खरीदना बंध करना चाहिए| हर हिंदुस्तानी निर्णय ले की अगर हेम ४० जवानो को सही श्रद्धांजलि देनी हे तो आजसे चीनी चीज वस्तु खरीदना बंध करदे और हामरे देश की चीज वस्तु खरीदना शुरू करदे| ये सिर्फ थोड़े दिन के लिए नही है लेकिन हमेशा के लिए हमें चीनी चीज वस्तु खरीदना बंध करदेना चाहिए| तभी चीनी सरकार को पता चलेगा की हम भारतके वडाप्रधान नरेन्द्र मोदी और भारतकी सेना के साथ है इस लड़ाई में| जिस तरह से गांधीजी ने विदेशी चीज वस्तु का बहिस्कार किया था उसी तरह हमें भी खरीदना बिलकुल ही बंध करने की जरूरत है| इससे भारत को काफी फायदा होगा फेला तो स्वदेशी चीज वस्तु बिकना शरू हो जाएगी| मंदी भी चली जाएगी| देश में रोजगार भी खुल जायेंगे| डोलर के सामने रूपया भी मजबूत होगा तो हर चीज वस्तु के दाम भी कम हो जायेंगे| हिंदुस्तान को चीन की कोई शर्ते भी माननी नहीं पड़ेंगी|

देखना चीन भारत का साथ देकर यूएन काउंसिल द्वारा मसूद अजहर को अंतरराष्ट्रीय आतंकवादियों की लिस्ट में सूचीबद्ध करने के भारत के साथ खड़ा होगा| ये लड़ाई भारत सरकार और भारतीय फौज की नही हमारी भी है तो ४० वीर शहीदों इस तरह से श्रद्धांजलि दे और मसूद अजहर भारत लाने में हमें भारत और सेना से साथ ये लड़ाई में सामिल हो|

मित्रो इस लड़ाई में आपको और साथ देने की जरूरत है ये बात आप लोगो तक जरुर प्होचाई|

Leave a Reply