टेक

फेसबुक और ट्विटर पर नहीं दिखेंगी फर्जी खबरें आ गया नया सॉफ्टवेयर

अमेरिका की यूनिवर्सिटी ऑफ मिशीगन के अनुसंधानकर्ताओं द्वारा विकसित यह टूल

Facebook and TwitterFacebook and Twitter
316

‘इफ्फी कोशेंट’ नाम के प्लेटफॉर्म हेल्थ मेट्रिक का इस्तेमाल करता है जो दो बाहरी निकायों ‘न्यूजव्हिप’ और ‘मीडिया बायस/फैक्ट चैकर’ के माध्यम से फेक न्यूज को खोजने वाली क्रिया को अंजाम दे सकता है| फेसबुक और ट्विटर सोशल मीडिया प्लेटफॉर्मों पर ५००० सबसे शीर्ष लोकप्रिय यूआरएल के लिए न्यूजव्हिप से जानकारी हासिल करता है| न्यूजव्हिप एक सोशल मीडिया ट्रैकिंग कंपनी है जो हर रोज हजारों साइटों से यूआरएल इकट्ठा करती है और फिर फेसबुक, ट्विटर से जुड़ी इन साइटों से सूचना एकत्रित करती है| इसके बाद यह सॉफ्टवेयर पता लगाता है कि ये डोमेन स्वतंत्र वेबसाइट मीडिया बायस/फैक्ट चैक द्वारा चिह्नित किये गये हैं या नहीं| मीडिया बायस/फैक्ट चैक कई स्रोतों की विश्वसनीयता और उनकी तटस्थता के आधार पर उनका वर्गीकरण करती है| फेसबुक ने फेक न्यूज़ और झूठी सूचनाओं पर लगाम लगाने के लिए एक पहल शुरू की थी|

Leave a Reply