समाचार

अब प्लास्टिक से बनेगा पेट्रोल

कीमत सिर्फ 40 रुपए प्रति लीटर

Petrol will be made from plastic
203

अब प्लास्टिक से बनेगा पेट्रोल, कीमत सिर्फ 40 रुपए प्रति लीटर, हैदराबाद के सतीश कुमार ने प्लास्टिक से पेट्रोल बनाने वाले है| हैदराबाद के रहने वाले ४५ वर्षीय प्रोफेसर सतीश कुमार एक मैकेनिकल इंजीनियर हैं| दुनिया भर के वैज्ञानिक प्लास्टिक को कम करने के लिए रोज नए-नए तरीके करने की सोचती है, लेकिन अभी तक वैज्ञानिकों को इसमें सफलता नहीं मिली है।

हैदराबाद के एक शख्स ने इस काम में सफलता हासिल कर ली है। इस शख्स ने प्लास्टिक इस्तेमाल करके पेट्रोल को बना डाला। सतीश कुमार ने हाल ही में प्लास्टिक से निर्मित पेट्रोल बनाया है जो हम आसानी से गाड़ियों में उपयोग कर सकते हैं| आपको यह पढ़कर हैरानी हुई होगी पर यह बिलकुल सच है और ऐसा हुआ भी है|

सतीश कुमार ने हाइड्रोक्सी प्राइवेट लिमिटेड नाम से एक कंपनी भी बनाई है. जो अतिलघु, लघु और मध्यम उद्यम मंत्रालय के तहत रजिस्टर है. इस कंपनी के तहत वह प्लास्टिक से पेट्रोल बनाते हैं| मीडिया से बात करते हुए सतीश कुमार ने बताया कि इन प्रक्रिया के जरिए प्लास्टिक को डीजल, विमानन ईंधन और पेट्रोल में बदलने के लिए रिसायकल किया जा सकता है। करीब ५०० किलोग्राम नॉन रिसायकल प्लास्टिक से ४०० लीटर पेट्रोल प्रोड्यूस किया जा सकता है।

२०१६ से लेकर अबतक वह करीब ५० टन प्लास्टिक को पेट्रोल में बदल चुके हैं| वह इस प्रकार के प्लास्टिक का प्रयोग करते हैं जिसे किसी भी प्रकार से पुनः प्रयोग में नहीं लाया जा सकता है. प्रतिदिन करीब २०० किलो प्लास्टिक के प्रयोग से वह २०० लीटर पेट्रोल बनाते हैं|

उन्होंने इस प्रक्रिया को प्लास्टिक पायरोलीसिस का नाम दिया है। उन्होंने खुलासा किया कि प्लास्टिक को ३५० से ४०० डिग्री के तापमान पर गर्म करने पर पेट्रोल बनाया जा सकता है। प्रक्रिया के बारे में बताया कि इसमें निर्वात में प्लास्टिक को अप्रत्यक्ष रूप् से गर्म करने पर यह अपने संघ्टाकों में टूट जाता है। इसके बाद गामीकरण और अणु संघनन की प्रक्रिया के बाद यह पेट्रोल में बदल जाता है।

रिपोर्ट के अनुसार, अपने उद्देश्य को लेकर बात करते हुए सतीश कुमार ने कहा, “इस प्लांट को शुरू करने के पीछे हमारा मुख्य उद्देश्य पर्यावरण की रक्षा करना है। हम इसके लिए किसी भी प्रकार के कमर्शियल बेनेफिट की उम्मीद नहीं कर रहे। हमारी बस एक छोटी सी कोशिश है कि भविष्य क्लीन रहे। अगर कोई उद्यमी इसमें रुची दिखाता है तो हम अपनी टेक्नॉलोजी उसके साथ शेयर करने को तैयार हैं।

Leave a Reply