त्यौहार

मोहिनी एकादशी १५ मई २०१९ को

वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी

Mohini Ekadashi 2019
417

मोहिनी एकादशी १५ मई २०१९ को, वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी, सरल विधि से करें व्रत-पूजन, जानें पूजा का शुभ मुहूर्त| विष्णु पुराण के अनुसार मोहिनी एकादशी का विधिवत व्रत करने से मनुष्य मोह-माया के बंधनों से मुक्ति मिल जाती है। साथ ही व्रती के समस्त पापों का नाश होता है।

हिन्दू धर्म में वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को ‘मोहिनी एकादशी’के नाम से जाना जाता है। यह भगवान विष्णु के स्त्री रूप को समर्पित दिन है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार इसदिन भगवान विष्णु स्त्री रूप में प्रकट हुए थे। पुराणों में विष्णु के स्त्री रूप को मोहिनी का नाम दिया गया, इसलिए हर साल यह पर्व ‘मोहिनी एकादशी’ के नाम से मनाया जाता है।

मोहिनी एकादशी व्रत रखने का शुभ मुहूर्त

एकादशी तिथि- १५ मई २०१९

पारण का समय – सुबह ५ बजकर २८ मिनट से

सुबह ८ बजकर २ मिनट तक (१६ मई २०१९)

 एकादशी तिथि आरंभ – १२ बजकर ५९ मिनट से (१४ मई २०१९)

 एकादसी तिथि समाप्त – १० बजकर ३६ तक (१५ मई २०१९)

मोहिनी एकादशी पर कैसे मिलेगा वरदान

जाप के बाद केले का फल छोटे बच्चों में बाटें और केसर का तिलक बच्चों के माथे पर लगाएं|

मोहिनी एकादशी पर भगवान विष्णु की पीले फल फूल और मिष्ठान से पूजा-अर्चना करें|

एक आसन पर बैठकर ॐ नमो भगवते वासुदेवाय मंत्र का १०८ बार जाप करें|

११ केले और शुद्ध केसर भगवान विष्णु को अर्पण करें|

मोहिनी एकादशी पर पूजा विधि

मोहिनी एकादशी के दिन सुबह उठकर स्नान करके साफ वस्त्र धारण करें|

दायें हाथ से पीले फल फूल नारायण भगवान को अर्पण करें और गाय के घी का दिया जलाएं|

अब किसी आसन पर बैठकर नारायण स्तोत्र का तीन बार पाठ करें|

एकादशी के दिन से लगातार २१ दिन तक नारायण स्तोत्र का पाठ जरूर करें|

मोहिनी एकादशी व्रत कथा

Leave a Reply