त्यौहार

माघी पूर्णिमा पर करे स्नान और पूजा होंगे कई लाभ

भगवान विष्णु गंगाजल में करते हैं निवास

Maghi Purnima
267

माघी पूर्णिमा पर करे स्नान और पूजा होंगे कई लाभ, भगवान विष्णु गंगाजल में करते हैं निवास, १९ फरवरी २०१९ मंगलवार को माघ पूर्णिमा है| इस दिन कुंभ का पांचवा स्नान भी किया जाएगा| इस बार माघ पूर्णिमा पर अर्ध्य कुम्भ का संयोग भी बना है| मघा नक्षत्र में माघ पूर्णिमा आई है| मान्यता है कि इस दौरान गंगा स्नान करने से इसी जन्म में मुक्ति की प्राप्ति होती है|

इस दिन सुबह उठकर किसी पवित्र नदी में स्नान करना चाहिए। स्नान करते समय ओम नम: भगवते वासुदेवाय नम: का जाप करें। इस दिन भगवान विष्णु की पूजा में केले, केले के पत्ते, सुपारी, पान, शहद, तिल, पंचांमृत, किल, मौली, रोली, कुमकुम, दूर्वा का उपयोग करें। इस दिन भगवान शंकर की पूजा भी लाभदायक होती है। इससे परिवार में निरोगिता और दीर्घ आयु का आशीर्वाद मिलता है|

मान्यता है कि माघी पूर्णिमा पर देवता भी रूप बदलकर गंगा स्नान के लिए प्रयाग आते हैं। इसलिए इस तिथि का विशेष महत्व धर्म ग्रंथों में बताया गया है। कहते हैं कि माघ पूर्णिमा पर ब्रह्म मुहूर्त में नदी स्नान करने से रोग दूर होते हैं। इस दिन तिल और कंबल का दान करने से नरक लोक से मुक्ति मिलती है।

माघ पूर्णिमा पर गंगा स्नान से मोक्ष मिलेगा

– गंगा स्नान के बाद शिव विष्णु की पूजा करें|

– हवन या जाप करें|

– अनाज, वस्त्र, फल, बर्तन, घी, गुड़, जल से भरा घड़ा दान करें| ऐसा करने से सभी पापों से मुक्ति मिलेगी|

– पितरों का श्राद्ध करें| इससे उन्हें मोक्ष की प्राप्ति होगी|

गंगा स्नान का शुभ मुहूर्त

– सुबह ४ बजकर २१ मिनट से स्नान शुरू होगा|

– लेकिन स्नान पूरे दिन चलेगा|

– स्नान करने से सारे कष्टों से मुक्ति मिलेगी|

माघ पूर्णिमा स्नान से धन लाभ होगा

– स्नान के बाद दान ध्यान और पूजा करें|

– भूमि, मकान, वाहन, संतान का सुख मिलेगा|

– मनचाहे अकूत धन की प्राप्ति मिलेगी|

गंगा जल से स्नान के बाद क्या करें

– स्नान के बाद सूर्यदेव को प्रणाम करें|

– ऊँ घृणि सूर्याय नमः मन्त्र का जाप करें|

– सूर्य को अर्घ्य दें. इसके बाद माघ पूर्णिमा व्रत का संकल्प लें|

– भगवान विष्णु की पूजा करें|

– पूजा के बाद दान दक्षिणा करें और दान में विशेष रूप से काले तिल प्रयोग करें|

– काले तिल से ही हवन और पितरों का तर्पण करें|

– इस दिन झूठ बोलने से बचें|

Leave a Reply