टेक

क्या ज्यादा समय मोबाइल का उपयोग से निकल रहे हैं सींग

ऑस्ट्रेलिया की गई शोध में हुआ खुलासा

Mobile Usage
171

क्या ज्यादा समय मोबाइल का उपयोग से निकल रहे हैं सींग, ऑस्ट्रेलिया की गई शोध में हुआ खुलासा, डिजिटल युग में जीने के तरीके बदलने होंगे| आधुनिक दुनिया के जमाने में हर व्यक्ति मोबाइल पर व्यस्त हो गया है। मोबाइल में इंटरनेट है और मानवी अकेला है तो उसे अकेलापन का महसूस नहीं होता है। अब डिजिटल दुनिया में हमे जीने के तरीके को बदलकर रख दिया है। डिजिटल दुनिया के माध्यम से मोबाइल पर बिजली बिल से लेकर पैसे ट्रांजेक्शन, शॉपिंग, पढ़ाई, वीडियो कॉलिंग आदि ऐसे कार्य है जो काफी आसान हो गया है।

लेकिन आधुनिकता जितनी फायदेमंद है, उतनी ही घातक भी है। एक शोध में,  साबित हुआ है की मोबाइल का ज्‍यादा इस्तेमाल करने वाले युवाओं के सिर में ‘सींग’ निकल रहे हैं। इस बात की पुष्टि सिर का स्कैन करने से हुई है। ये रिसर्च जैव यांत्रिकी पर की गई है जिसमें यह सामने आया है कि एक युवा काफी मोबाइल का उपयोगकर्ता था| उस समय सिर अधिक समय तक झुकने के कारण उनकी खोपड़ी के पीछे सींग विकसित हो रहे हैं।

ऑस्ट्रेलिया के क्वींसलैंड स्थित सनशाइन कोस्ट यूनिवर्सिटी द्वारा किए गए अध्ययन से खुलासा हुआ है कि मोबाइल पर अधिक समय बिताने वाले युवाओं खासकर जिनकी उम्र १८ से ३० साल के बीच है, वो इसके ज्यादा शिकार हो रहे हैं। शोध में कहा गया है कि रीढ़ की हड्डी से शरीर का वजन शिफ्ट होकर सिर के पीछे की मांसपेशियों तक जाता है।

‘वॉशिंगटन टाइम्स’ की खबर में उस स्कैन किए गए चित्र को भी दिखाया गया है जिसमें खोपड़ी के निचले हिस्से में कांटेदार सींग जैसी हड्डी दिख रही है। शोधकर्ताओं का कहना है कि आज के समय में स्मार्टफोन और इसी तरह के दूसरी डिवाइस मानव आकार में परिवर्तन ला रही है।

उपयोगकर्ता को मोबाइल की छोटी स्क्रीन होने के कारण उसे देखने के लिए अपने सिर को आगे झुकना पड़ता है। डॉक्टर्स का कहना है कि मानव की खोपड़ी का वजन करीब साढ़े चार किलोग्राम का होता है। आमतौर पर मोबाइल का इस्तेमाल करते वक्त लोग अपने सिर को आगे पीछे की तरफ हिलाते हैं। ऐसा सिर पर ज्यादा दबाव पड़ने से हो रहा है। ये दावा सही है वैज्ञानिक के माने तो ये भी हो सकता है|

Leave a Reply