त्यौहार

महाशिवरात्रि पर महादेव को कैसे प्रसन्न करे

भगवन शिव को कैसे प्रसन्न करे

Bhagwan Shankar
210

महाशिवरात्रि पर महादेव को कैसे प्रसन्न करे, कहते हैं कि महाशिवरात्रि में किसी भी प्रहर अगर भोले बाबा की आराधना की जाए, तो मां पार्वती और भोले त्रिपुरारी दिल खोलकर कर भक्तों की कामनाएं पूरी करते हैं| महाशिवरात्रि पर पूरे मन से कीजिए शिव की आराधना और पूरी कीजिए अपनी हर कामना|

महाशिवरात्रि में किसी भी प्रहर अगर भोले बाबा की आराधना की जाए, तो मां पार्वती और भोले त्रिपुरारी दिल खोलकर कर भक्तों की कामनाएं पूरी करते हैं| महाशिवरात्रि पर पूरे मन से कीजिए शिव की आराधना और पूरी कीजिए अपनी हर कामना|

महाशिवरात्रि हिन्दुओं का एक प्रमुख त्योहार है| यह भगवान शिव के पूजन का सबसे बड़ा पर्व भी है| फाल्गुन कृष्ण चतुर्दशी को महाशिवरात्रि पर्व मनाया जाता है| माना जाता है कि सृष्टि के प्रारंभ में इसी दिन मध्यरात्रि को भगवान शंकर का ब्रह्मा से रुद्र के रूप में अवतरण हुआ था|

महाशिवरात्रि को दिन-रात पूजा का विधान है| चार पहर दिन में शिवालयों में जाकर शिवलिंग पर जलाभिषेक कर बेलपत्र चढ़ाने से शिव की अनंत कृपा प्राप्त होती है| साथ ही चार पहर रात्रि में वेद मंत्र संहिता, रुद्राष्टा ध्यायी पाठ ब्राह्मणों के मुख से सुनना चाहिए|

‘शिव’ शब्द का अर्थ है ‘कल्याण करने वाला’ शिव ही शंकर हैं| शिव के ‘शं’ का अर्थ है कल्याण और ‘कर’ का अर्थ है करने वाला| शिव, अद्वैत, कल्याण- ये सारे शब्द एक ही अर्थ के बोधक हैं| शिव ही ब्रह्मा हैं, ब्रह्मा ही शिव हैं| ब्रह्मा जगत के जन्मादि के कारण हैं|

Leave a Reply