त्यौहार

महाशिवरात्रि की शुभकामनायें

शिवरात्रि की शुभकामनायें

Rudra Avtar
987

महाशिवरात्रि की शुभकामनायें, शिवरात्रि की शुभकामनायें, शिव भक्तों के लिए महाशिवरात्री और सावन की शिवरात्री दोनों ही बहुत खास होते है| महाशिवरात्रि के दिन लोग भगवान शिव की आराधना करते हैं। उन्हें प्रसन्न करने के लिए व्रत रखते हैं, बेलपत्र और जल चढ़ाते हैं। लोग शिवरात्रि की बधाई भी देते हैं| महाशिवरात्रि के दिन लोग भगवान शिव की आराधना करते हैं। उन्हें प्रसन्न करने के लिए व्रत रखते हैं, बेलपत्र और जल चढ़ाते हैं। लोग शिवरात्रि की बधाई भी देते हैं|

समुद्र मंथन के दौरान निकले विष को भगवान शिव ने पी लिया था| जिसके परिणामस्वरूप वह विष की नकारात्मक ऊर्जा से पीड़ित हो गए| त्रेता युग में रावण ने शिव का ध्यान किया और वह कांवड़ का इस्तेमाल कर गंगा के पवित्र जल को लेकर आए| इस गंगाजल को भगवान शिव पर अर्पित किया और इस तरह उनकी नकारात्मक ऊर्जा दूर हुई. इसी के चलते सावन में शिवरात्री का बड़ा महत्व माना जाता है|

महाशिवरात्रि के दिन लोग भगवान शिव की आराधना करते हैं। उन्हें प्रसन्न करने के लिए व्रत रखते हैं, बेलपत्र और जल चढ़ाते हैं। लोग शिवरात्रि की बधाई भी देते हैं|

भोले आयें आपके द्वार

भर दें जीवन में खुशियों की बहार

ना रहे जीवन में कोई भी दुःख

हर ओर फ़ैल जाये सुख ही सुख

हैप्पी महाशिवरात्रि दोस्तों


महाशिवरात्रि के उपलक्ष पर

शिव और शक्ति के मिलन की हार्दिक शुभकामनायें

भोले शंकर का आशीर्वाद मिले

उनकी दया का प्रसाद मिले

आप पायें जीवन में सफलता

आपको भोले शंकर का वरदान मिले


बनी रहे शिव जी की आप पर माया

पलट जाये आपके किस्मत की काया

जिंदगी में आप हासिल करें वो मुकाम

जो आज तक किसी ने नहीं पाया


भोले की भक्ति में डूब जायेंगे

भोले के चरणों में शीश झुकायेंगे

आज है शिवरात्रि का त्यौहार

आज शिव की महिमा का गुणगान गायेंगे

महाशिवरात्रि की आपके परिवार को हार्दिक शुभकामनायें


एक फूल

एक बेल पत्र

एक लोटा जल की धार

करे सबके जीवन का उद्धार….ॐ नमः शिवायः

शिवरात्रि तक ये शिवलिंग हर व्यक्ति के मोबाइल में होना चाहिये

जय भोले नाथ


जगह-जगह में शिव है

हर जगह में शिव है

है वर्तमान शिव

और भविष्य भी शिव है

हैप्पी महाशिवरात्रि


शिव भी वही है शंकर भी वही

है भोले नाथ भी वही

हर जगह बसता वही

है वही भूतनाथ

वैरी हैप्पी शिवरात्रि


मस्तक सोहे ‪चन्द्रमा,

गंग ‪जटा के बीच ‪श्रद्धा से ‪शिवलिंग को,

निर्मल जल मन से सीच !! ‪

नीलकंठ ‪‎महादेव की जय


जो अमृत पीते हैं उन्हें देव कहते हैं,

और जो विष पीते हैं उन्हें देवों के देव “महादेव” कहते हैं


पी के भांग ज़मा लो रंग

ज़िन्दगी बीते खुशियों के संग

लेकर नाम शिव भोले का

दिल में भर लो शिवरात्रि की उमंग

महाशिवरात्रि की शुभकामनायें


शिव की महिमा अपार

शिव करते सबका उद्धार

उनकी कृपा आप पर सदा बनी रहे

और आपके जीवन में आयें खुशियाँ हज़ार

Leave a Reply