त्यौहार

हैप्पी महाशिवरात्री

हैप्पी शिवरात्रि

Rudra
191

हैप्पी महाशिवरात्री, हैप्पी शिवरात्रि, शिव भक्तों के लिए महाशिवरात्री और सावन की शिवरात्री दोनों ही बहुत खास होते है| महाशिवरात्रि के दिन लोग भगवान शिव की आराधना करते हैं। उन्हें प्रसन्न करने के लिए व्रत रखते हैं, बेलपत्र और जल चढ़ाते हैं। लोग शिवरात्रि की बधाई भी देते हैं| महाशिवरात्रि के दिन लोग भगवान शिव की आराधना करते हैं। उन्हें प्रसन्न करने के लिए व्रत रखते हैं, बेलपत्र और जल चढ़ाते हैं। लोग शिवरात्रि की बधाई भी देते हैं|

समुद्र मंथन के दौरान निकले विष को भगवान शिव ने पी लिया था| जिसके परिणामस्वरूप वह विष की नकारात्मक ऊर्जा से पीड़ित हो गए| त्रेता युग में रावण ने शिव का ध्यान किया और वह कांवड़ का इस्तेमाल कर गंगा के पवित्र जल को लेकर आए| इस गंगाजल को भगवान शिव पर अर्पित किया और इस तरह उनकी नकारात्मक ऊर्जा दूर हुई. इसी के चलते सावन में शिवरात्री का बड़ा महत्व माना जाता है|

महाशिवरात्रि के दिन लोग भगवान शिव की आराधना करते हैं। उन्हें प्रसन्न करने के लिए व्रत रखते हैं, बेलपत्र और जल चढ़ाते हैं। लोग शिवरात्रि की बधाई भी देते हैं|

शिव की बनी रहे आप पर छाया

जो पलट दे आपकी किस्मत की काया

मिले आपको वो सभी आपकी ज़िन्दगी में

जो कभी किसी ने भी ना पाया

महा शिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनायें


भक्ति में है शक्ति बंधू

शक्ति में संसार है

त्रिलोक में है जिसकी चर्चा

उन शिव जी का आज त्यौहार है

ॐ नमः शिवाय।। हैप्पी महाशिवरात्रि


भोले बाबा का आशीर्वाद मिले आपको

उनकी दुआ का प्रसाद मिले आपको

आप करें अपनी ज़िन्दगी में इतनी तरक्की

हर किसी का प्यार मिले आपको

जय भोले शिवशंकर बाबा की जय


शिव की बनी रहे आप पर छाया

पलट दे जो आपकी किस्मत की काया

मिले आपको वो सब इस अपनी ज़िन्दगी में

जो कभी किसी ने भी ना पाया

शिवरात्रि की ढेरों बधाई


बाबा ने जिस पर भी डाली छाया

रातो रात उसकी किस्मत की पलट गई छाया

वो सब मिला उसे बिन मांगे ही

जो कभी किसी ने ना पाया

शिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएं


शिव की बनी रहे आप पर छाया

पलट दे जो आपकी किस्मत की काया

मिले आपको वो सब इस अपनी ज़िन्दगी में

जो कभी किसी ने भी ना पाया


भोले की भक्ति में मुझे डूब जाने दो

शिव के चरणों में शीश झुकाने दो

आई है शिवरात्रि मेरे भोले बाबा का दिन

आज के दिन मुझे भोले के गीत गाने दो


शिव की ज्योति से नूर मिलता है

सबके दिलो को सुरूर मिलता हैं

जो भी जाता है भोले के द्वार

कुछ न कुछ ज़रूर मिलता हैं


सारा जहाँ है जिसकी शरण में

नमन है उस शिव जी के चरण में

बने उस शिवजी के चरणों की धुल

आओ मिल कर चढ़ाये हम श्रद्धा के फूल


पी के भांग जमा लो रंग

जिन्दगी बीते खुशियों के संग

लेकर नाम शिव भोले का

दिल में भर लो शिवरात्रि की उमंग

महा शिवरात्रि की हार्दिक बधाई


यह कैसी घटा छाई हैं

हवा में नई सुर्खी आई है

फ़ैली है जो सुगंध हवा में

जरुर महादेव ने चिलम लगाई है


जगह-जगह में शिव हैं हर जगह में शिव है

है वर्तमान शिव और भविष्य भी शिव हैं !

आप सभी को महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाए

Leave a Reply