देश

नरेंद्र मोदी और इंदिरा गांधी की तुलना

राजनीति में उनके दबदबे और कार्यशैली मिलती जुलती है

Narendra Modi vs Indira Gandhi
63

नरेंद्र मोदी और इंदिरा गांधी की तुलना, राजनीति में उनके दबदबे और कार्यशैली मिलती जुलती है, आक्रामक मिजाज झलक दिखती है| २०१९ के लोकसभा चुनावों में जीत के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी स्पष्ट बहुमत से दूसरी बार सरकार बनाने वाले नेताओं जवाहरलाल नेहरू और इंदिरा गांधी की फेहरिस्त में शामिल हो गए है। मोदी की लोकप्रियता विदेशों तक बड गई है और उनकी वाह वाह हो रही है|

इंदिरा गांधी सलाह तो लेती थी मगर करती वही थी जो उन्हें ठीक लगता था। देश में इमरजेंसी लगाना बहुत ही कठोर और साहसिक कदम था, ठीक उसी तरह नरेंद्र मोदी ने भी अपने कार्यकाल में कई बड़े, ऐतिहासिक और कड़े निर्णय लिए है। नोटबंदी एक ऐसा मुद्दा था जिस पर सभी उन्हें घेर रहे थे और हमेशा अपनी बात सबके सामने रखने वाले मोदी चुप थे।

देश का इतिहास और भूगोल बदल देने वाली इंदिरा गांधी का व्यक्तित्व वास्तव में एक राष्ट्र की उन्न्ति और विकास के लक्ष्य को परिलक्षित करता था। लेकिन कहीं न कहीं उन्हें तानाशाह भी कहा जाने लगा था| नरेंद्र मोदी भी पार्टी की अनसुनी कर अपने नियम खुद बनाते हैं। भारतीय जनता पार्टी भी दो हिस्सों में बंट गई, पार्टी में दो खेमें बन गए एक मोदी विरोधी और दूसरा मोदी सहयोगी।

चुनाव परिणामों के बाद कहा जा सकता है कि इस बार का चुनाव मोदी वर्सेस मोदी ही हुआ, क्योंकि कोई भी उनके समकक्ष खड़ा नहीं दिखा। इसी इंदिरा के समकक्ष भी कोई नेता टिक नहीं पाता था। इन दोनों नेताओं की भाषणशैली में एक जैसे तेवर देखने को मिलते हैं।

Leave a Reply