धर्म

बिल्वपत्र मंत्र

भगवन शिव को बिल्वपत्र चढ़ाने का यह मंत्र

Baba Bholenath
679

बिल्वपत्र मंत्र, भगवन शिव को बिल्वपत्र चढ़ाने का यह मंत्र, क्या आप जानते हैं बिल्वपत्र चढ़ाने का यह मंत्र, बिल्वपत्र चढ़ाने का मंत्र| तीन पत्तियों वाला बिल्वपत्र शिव जी को अत्यंत प्रिय है। आइए जानें कि बिल्वपत्र चढ़ाते समय कौन सा मंत्र बोलने से शीघ्र फल मिलता है।

सोमवार, महाशिवरात्रि के दिन और श्रावण मास शिवभक्त बड़े धूमधाम से शिव की पूजा करते हैं| भक्त मंदिरों में जाकर शिवलिंग पर बेल-पत्र आदि चढ़ाकर पूजन करते हैं|  लोग उपवास तथा रात को जागरण करते हैं|

शिवलिंग पर बेल पत्र चढ़ाना, उपवास तथा रात्रि जागरण करना एक विशेष कर्म की ओर इशारा करता है| इस दिन श्रद्धालु भगवान शिव की अराधना करते हैं ताकि उनकी मनोकामना पूर्ण हो सके। इस दिन देशभर के शिव मंदिरों में भक्तों का तांता लगा होता है। भक्त इस दिन भगवान शिव को फल-फूल और दूध व जल चढ़ाते हैं।

शिव की महत्ता को ‘शिवसागर’ में और ज्यादा विस्तृत रूप में देखा जा सकता है| शिवसागर में बताया गया है कि विविध शक्तियां, विष्णु व ब्रह्मा, जिसके कारण देवी और देवता के रूप में विराजमान हैं, जिसके कारण जगत का अस्तित्व है, जो यंत्र हैं, मंत्र हैं, ऐसे तंत्र के रूप में विराजमान भगवान शिव को नमस्कार है|

बिल्वपत्र शिव पर चढ़ाते समय का मंत्र

नमो बिल्ल्मिने च कवचिने च नमो वर्म्मिणे च वरूथिने च

नमः श्रुताय च श्रुतसेनाय च नमो दुन्दुब्भ्याय चा हनन्न्याय च नमो घृश्णवे॥

दर्शनं बिल्वपत्रस्य स्पर्शनम्‌ पापनाशनम्‌। अघोर पाप संहारं बिल्व पत्रं शिवार्पणम्‌॥

त्रिदलं त्रिगुणाकारं त्रिनेत्रं च त्रिधायुधम्‌। त्रिजन्मपापसंहारं बिल्वपत्रं शिवार्पणम्‌॥

अखण्डै बिल्वपत्रैश्च पूजये शिव शंकरम्‌। कोटिकन्या महादानं बिल्व पत्रं शिवार्पणम्‌॥

गृहाण बिल्व पत्राणि सपुश्पाणि महेश्वर। सुगन्धीनि भवानीश शिवत्वंकुसुम प्रिय।

Leave a Reply